ads banner
ads banner
क्रिकेट न्यूज़विशेष न्यूज़Cricketers Chew Gum: खिलाड़ी च्युइंग गम क्यों चबाते है?

Cricketers Chew Gum: खिलाड़ी च्युइंग गम क्यों चबाते है?

क्रिकेट न्यूज़: Cricketers Chew Gum: खिलाड़ी च्युइंग गम क्यों चबाते है?

Cricketers Chew Gum Field: यह अब कोई रहस्य नहीं है कि विभिन्न प्रसिद्ध एथलीट खेल के दौरान च्युइंग गम का उपयोग क्यों करते हैं।

कई अध्ययनों से यह साबित हुआ है कि च्युइंग गम चबाने से एथलीटों को फायदा होता है, खासकर क्रिकेट जैसे खेल में जहां दौड़ना और गेंद पर गहरी नजर रखना खेल के आवश्यक पहलू हैं।

विव रिचर्ड्स, रिकी पोंटिंग और विराट कोहली जैसे मशहूर खिलाड़ी च्युइंग गम खाते नजर आते हैं, वहीं दूसरी ओर सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे खेल दिग्गज च्युइंग गम के इस्तेमाल से बचते नजर आते हैं.

इस लेख में हम च्युइंग गम खाने के सटीक फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे-

क्रिकेटर मैदान पर बबल गम क्यों चबाते हैं?

च्युइंग गम चबाने से एथलीटों को शांत और आराम महसूस करने में मदद मिलती है। यह एथलीटों को खेल के दौरान धैर्य और लगातार शांति बनाए रखने में मदद करने के लिए भी सिद्ध हुआ है।

च्युइंग गम लार के उत्पादन को बढ़ाता है जिससे एथलीटों को प्यास लगती है और इस प्रकार उन्हें हाइड्रेटेड रहने के लिए प्रेरित किया जाता है।

च्युइंग गम एक मनोवैज्ञानिक उपकरण के रूप में भी काम करता है और इसमें मौजूद चीनी एथलीट के ऊर्जा स्तर को बढ़ाने में मदद करती है।

Cricketers Chew Gum Field: 5 कारण और लाभ

शांत और आराम महसूस करें

चाहे वह शोएब अख्तर हों, जो 160 किमी प्रति घंटे से अधिक की गति से गेंदबाजी करते हैं, या शेन वार्न, जो गेंद को क्रीज के बाहर से घुमाते हैं, एक बल्लेबाज को स्थिर दिमाग के साथ गेंद पर आंखों के संपर्क की जरूरत होती है। और यही कारण है कि कुछ एथलीट गम चबाते हैं ताकि उनकी एकाग्रता भंग न हो, जो कि वैज्ञानिक समुदाय द्वारा भी सिद्ध किया गया है।

Cricketers Chew Gum Field: क्रिकेटर क्यों चबाते हैं गम? हाइड्रेटेड रहें

क्रिकेट विभिन्न महाद्वीपों के कई देशों में खेला जाता है। इन विभिन्न क्षेत्रों की भौगोलिक परिस्थितियाँ भी भिन्न-भिन्न हैं। एथलीटों को कुछ स्थानों पर अत्यधिक उच्च तापमान और कुछ स्थानों पर ठंड का सामना करना पड़ता है।

भारतीय उपमहाद्वीप में खेलते समय खिलाड़ियों को अधिक गर्मी और उमस का सामना करना पड़ता है, जहां च्यूइंग गम हाइड्रेटेड रहने में मदद करता है।

एकाग्रता एवं लय

कुछ शोधकर्ताओं ने पाया है कि च्युइंग गम किसी एथलीट की एकाग्रता और लय को प्रभावित कर सकता है। कई खिलाड़ियों ने इसकी पुष्टि भी की है. विव रिचर्ड्स जैसे दिग्गज ने इसका समर्थन करते हुए कहा, “च्यूइंग गम ने मेरे खेल में बहुत सारे बदलाव लाए।

प्रतिक्रिया और प्रतिवर्ती गति

च्युइंग गम मस्तिष्क की प्रक्रिया को तेज़ करता है और मस्तिष्क के माध्यम से शरीर के विभिन्न अंगों तक तेज़ गति से संदेश भेजता है। परिणामस्वरूप, खिलाड़ी की गति, एकाग्रता और खेल में सुधार होता है।

ऊर्जा स्तर बढ़ाएँ

क्रिकेट जैसे आउटडोर खेलों में शरीर की ऊर्जा का महत्व और अधिक स्पष्ट हो जाता है। क्रिकेट के विभिन्न प्रारूपों में खिलाड़ी विभिन्न स्तरों की ऊर्जा का उपयोग करते हैं। यह ऊर्जा एथलीट को लंबे समय तक फिट रहने में मदद करती है। ग्लूकोज मानव शरीर में ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

हम जानते हैं कि च्युइंग गम में चीनी होती है लेकिन यह चीनी ग्लूकोज के रूप में नहीं होती है। जब यह शरीर में प्रवेश करने के बाद ग्लूकोज के साथ मिश्रित होता है, तो यह स्वाभाविक रूप से एथलीट के ऊर्जा स्तर को बढ़ाने में मदद करता है।

Cricketers Chew Gum Field: निष्कर्ष

क्रिकेट में, जहां किसी खिलाड़ी या टीम की एक छोटी सी गलती महंगी पड़ सकती है, खिलाड़ी अपने व्यक्तिगत और टीम के प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल करते हैं और च्युइंग गम उनमें से एक है।

यह देखा गया है कि च्युइंग गम के उचित उपयोग से टीम और खिलाड़ियों दोनों को लाभ होता है, हालाँकि, क्रिकेट गेंद पर अनुचित प्रयोग आपको परेशानी में डाल सकता है।

यह भी पढ़ें– How Many Overs in Test Cricket: टेस्ट मैच में कितने ओवर?

Dheeraj Roy
Dheeraj Royhttps://crickethighlightnews.com/
क्रिकेट एक नया मोड़ वाला पुराना खेल है। नियम सरल हैं, लेकिन खेल में महारत हासिल करने में जीवन भर लग सकता है। क्रिकेट 1200 के आसपास रहा है और आज भी लोकप्रिय है।

क्रिकेट हिंदी लेख

नवीनतम क्रिकेट न्यूज़